Connect with us

Uncategorized

जानिये क्या हैं खाता, खतौनी, खेवट, खसरा नम्बर?

Published

on

जैसा कि हम जानते हैं जमीन से जुड़े किसी भी कार्य के लिए सबसे पहले हमे जमीन की पूरी जानकारी होना आवश्यक है, जैसा की कानून में जमीन या लैंड के लिए विशेष तरह के नाम या संख्या प्रदान की जाती है उन्ही में से कुछ नाम ऐसे होते हैं जिनके बारे में हमें जानकारी नहीं होती है!

ये नाम कभी कभी अलग अलग राज्यों के अलग अलग नियमों और कानूनों के मुताबिक रखे जाते हैं, जैसा की हम जानते हैं भारत में भी इस तरह से जमीन और उससे जुड़े मामलों को साफ़ सुथरा रखने के लिए, जमीनों को संख्या प्रदान कर दी जाती है, जिसके द्वारा ही उस जमीन का निर्धारण किया जाता है, उसी संख्या के आधार पर कानूनी दस्तावेजों का निर्माण होता है और जमीन से जुडी हुयी किसी भी प्रक्रिया का निर्धारण उस संख्या से ही होता है!

आइये जानते हैं कि क्या होती हैं ये संख्या और कैसे निर्धारित हुए इनके ये नाम?

खाता या खेवट नम्बर क्या होता है? (Khata and khewat)

खेवट नम्बर को साधारणतः “खाता नम्बर” भी कहा जाता है, इसे किसी भी जमीनी संपत्ति के मालिक को प्रदान किये गए अकाउंट नम्बर के रूप में भी देखा जा सकता है! यह किसी भी संपत्ति के सह मालिक के साथ हुए जमीन के भाग के अलग अलग हिस्सों को भी निर्धारित करता है, अतः इसीलिए इसे किसी भी संपत्ति के मालिकों को प्रदान किये गए खाता नम्बर के रूप में परिभाषित किया जा सकता है!

खाता नम्बर किसी भी जमीनी संपत्ति या क्षेत्र को दस्तावेजों पर निर्धारित करने के लिए प्रदान की गयी एक संख्या के रूप में देखा जा सकता है, इसका उपयोग संपत्ति की जानकारी के लिए और उस क्षेत्र के मैप में उस जगह को दिखाने के लिए उपयोग में लिया जाता है!

 

खसरा (khasra) क्या होता है?

खसरा गिर्द्वारी राजस्व विभाग का एक डॉक्यूमेंट होता है जिसका उपयोग भारत में किसी भी कृषि भूमि और फसल की जानकारी के लिए किया जाता है! इसका उपयोग शजरा नामक दस्तावेज में होता है (शजरा किश्तवार) जो की गाँव का निर्धारित मैप होता है, यह उस जगह के क्षेत्रफल और वहां की भौगोलिक परिस्थितियों को निर्धारित करता है!

खसरा में मुख्य रूप से “सभी क्षेत्र और उनका एरिया, नाप, उसका ओनर (स्वामी) और किस किसान के द्वारा वहां खेती की जाती है, क्या फसल उगाई जाती है, किस तरह की मिटटी है, कौनसे पेड़ उस क्षेत्र में लगे हैं, वहां की स्थिति और क्षेत्रफल से लेकर वहां के वातावरण आदि की सारी जानकारी खसरा में उपलब्ध होती है!

इतिहास-पारंपरिक रूप से भारतीय उपमहाद्वीप में खसरा का दस्तावेज कई सालों से मौजूद है, यह भारत में ब्रिटिश शासनकाल के समय से मौजूद है, भारत का आर्थिक इतिहास जानने के लिए खसरा आदि का उपयोग बहुत महत्वपूर्ण रहा है, यह भारत और पाकिस्तान के विभिन्न स्थानों की पहचान करने और उनकी भौगोलिक परिस्थिति के बारे में जानने के लिए बहुत उपयोगी रहा है, खसरा के द्वारा ही भी भौगोलिक स्थानो की खोजबीन की गयी, वहीँ इसके ऐतिहासिक महत्त्व को भी खसरा के द्वारा समझा गया है!  

खतौनी (khatauni) क्या होता है?

खतौनी एक प्रकार का भूमि अभिलेख माना जा सकता है जो, जिसे एक क़ानूनी दस्तावेज माना जा सकता है, जिसमे किसी भी जमीन का विवरण होता है, यह पटवारी या काश्तकार के द्वारा बनाया जाता है, या उनके द्वारा रखा जाता है, इसमें किसी भी जमीन का विवरण, उसका क्षेत्र और अलग अलग मदों की अलग अलग खाते वाली बही होती है!

खतौनी को विभिन्न क्षेत्रों की अलग अलग खाते वाली बही कहा जा सकता है, खतौनी एक बहुपयोगी दस्तावेज है जिसके द्वारा किसी भी क्षेत्र की स्थिति और उसका पूरा विवरण पटवारी या काश्तकार से प्राप्त किया जा सकता है!

खतौनी भूमि का अभिलेख होती है, इसमें खसरा, नक्शा किश्तबंदी आदि का समावेश होता है! इसे विभिन्न खातों वाली बही भी कहा जा सकता है!

मान लें अगर आप अपने किसी व्यापार के लिए कर्ज लेना चाहते हैं, और आपके पास खेती की जमीन है, बैंक जमीन गिरवी रखकर आपको कर्ज देना चाहता है तो वह खतौनी की मांग करता है, खतौनी भूमि अभिलेख है, इसमें खसरा, नक्शा, किश्तबंदी आदि का समावेश रहता है, आपको अपने पटवारी से अपनी जमीन का खसरा और नक्शा लाना पड़ेगा! पटवारी ही इस अभिलेख को तैयार करते हैं!

आज के समय में खसरा, खतौनी आदि प्राप्त करने के लिए राज्य सरकारों के द्वारा ऑनलाइन सुविधा उपलब्ध करायी जा रही है!

ऑनलाइन प्राप्त करें खसरा, खेवट, खाता नम्बर और खतौनी

भारत के विभिन्न राज्यों की राज्य सरकारों ने खसरा खतौनी प्राप्त करने के लिए ऑनलाइन सुविधा का आगाज़ कर दिया है, ऑनलाइन सुविधा के आने से आज के समय में खसरा खतौनी प्राप्त करने के लिए पटवारी या काश्तकार के पास जाने की भी जरुरत नहीं है, अब उन्हें भी अपने बनाये हुए दस्तावेजों को ऑनलाइन अपलोड करने की सुविधा दे दी गयी है, जिससे की भ्रष्टाचार पर लगाम लगाने की अच्छी कोशिश के रूप में भी देखा जा सकता है!

किसी भी राज्य में अपने क्षेत्र या अपनी जमीन का खसरा नम्बर या खतौनी नम्बर जानने के लिए उस राज्य की वेबसाइट पर जाकर, जिले का नाम, तहसील का नाम, ब्लॉक का नाम, और गाँव का नाम भरना होता है, इन गाँवों तहसीलों और जिलों की सूची वेबसाइट पर उपलब्ध होती है, जिससे चुनकर इन्हें भरना होता है, इसके बाद पूरी जानकारी भरने पर एक लिस्ट उस क्षेत्र के खसरा/ खतौनी की सामने आ जाती है, जिसकी खतौनी निकालनी है उसके नाम पर क्लिक करने के बाद, एक दस्तावेज सामने आ जाता है जिसे आप प्रिंट करवा सकते हैं! (मध्यप्रदेश राज्य के आधार पर)

 

नमस्कार दोस्तों, मैं Pandit Shivam, HREX का Author हूँ. मुझे नयी नयी Technology से सम्बंधित चीज़ों को सीखना और दूसरों को सिखाने में बड़ा मज़ा आता है. मेरी आपसे विनती है की आप लोग इसी तरह हमारा सहयोग देते रहिये और हम आपके लिए नईं-नईं जानकारी उपलब्ध करवाते रहेंगे I

Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Online Bhulekh

{Bhoomi RTC}How to Check Bhoomi RTC (Pahani) – Karnataka Land Records Online

Published

on

RTC

What is Pahani (RTC) in Karnataka and what kind of information it contains?

Pahani (RTC) is an online portal issue important land document, requires for saving land records. It serves under Karnataka Government. A best-trusted portal primarily deals with setting the name of your land or in native speaking ‘Bhoomi’ along with many others land-related issues.  RTC in actual indicates the following: Record of Rights, Tenancy and Crop Information.  The information that’s mainly incorporated in their works are: 

  • Choosing a diverse type of Bhoomi
  • Their entire area measurement
  • To identify soil type
  • How much water is needed to pour in order to keep them fit?
  • Is the land fit for possession, tenancy, and selling? 
  • Real estate issues like transferring of the property
  • Helping those who are looking for a loan and trying to acquire against property etc. 

How to check Karnataka Land Records online from Bhoomi Karnataka website?

They have their own official online portal filled with various sorts of Bhoomi related necessary details like: 

  • The record of past and current year.
  • Its current mutation status etc.

To check the Bhoomi Karnataka website, Please follow these steps:

Step 1-First open Bhoomi Karnataka site’s www.landrecords.karnataka.gov.in

Step 2– Then, click on ‘view RTC link’, present on the right side of the Home page.

Step-3 After coming on the next page select district, Taluka, Hobli, and village of your own.

Step-4 And also enter the survey no.

 Step-5 Then, at last, press the submit button to check land records online.

How to check Bhoomi RTC Online in Karnataka?

In order to check Bhoomi RTC Online record in Karnataka

Step-1 You first requires visiting their official site www.bhoomi.karnataka.gov.in 

Step-2 Then, choose ‘RTC’ online from its home page.

Step-3 After clicking takes entry on the next page

Step-4 There you will get a requesting application, enter all the details of Village, Hobli, District, Taluk and survey no etc.

Step-5 At last, clicks on the final ‘Fetch Details’ button for accessing all the required details you need taking the land.

How to download RTC (Pahani)?

To download or install RTC (Pahani) follow these given steps:

Step 1- First, open www.bhoomi.karnataka.gov.in

Step 2- Then, press view original 

Step 3-on next page click on i-RTC on Bhoomi service list.

Step 4- After coming on next page, click on Bhoomi Online i-RTC Citizen Login

Step-5– Then, click on Login as Guest

Step-6– On the next page fill the requesting application, in which District, Taluk, Hobli, Village and Survey no is mentioned.

Step-7 At last, Click on ‘Fetch details’ and view RTC and your download is complete.

How to check mutation register and mutation status from Land Records Karnataka website?

In property language, Mutation simply means a formal process that covers transferring of property from one person to another along with ownership right. 

In order to check mutation status record from Land Records Karnataka Website:

Step 1– First click at ‘RTC and MR’ option from home page of the Bhoomi portal www.landrecords.karnataka.gov.in

Step 2– Then, click on mutation option

Step 3– There you need to fill all the details like mentioning district, Taluk, Village name and survey numbers etc. as well. These are some overall procedure you have to follow to scan your mutation report and registration from Land or Bhoomi Records Karnataka website.

How to check Karnataka revenue maps online?

Karnataka revenue maps online help in finding all land details that, a person need before buying and selling of Land/Bhoomi.  Here, a person can easily and securely track the location of Bhoomi or land with the help of a map is present on Karnataka Land Record’s RTC Website. 

To check Karnataka revenue maps online is quite easy by following these few simple procedures:  

Step 1-Firstly, open Bhoomi Karnataka official site, www.landrecords.karnataka.gov.in

Step 2-Then, click on Revenue Map, located on the left side of Bhoomi Services home page.

Step 3-After it select the “state” which is present in the menu bar of the home page.

Step 4-Now; select District, Taluk, Hobli and any type of Map

Step 5– Finally Click on PDF File and view your land image online.

What are the uses of Karnataka RTC Bhoomi?

Karnataka RTC Bhoomi specifically includes these following works: 

  • Bhoomi measurement
  • To scan the authenticity of Bhoomi
  • Bhoomi’s capacity for water absorption
  • To check the soil type.
  • Status of land possession
  • Checking the fertility capacity for the crop is grown
  • About land types
  • Information of the landowner
  • Handling issues of land transferring
  • Managing tenancy and lots other

How checking land records are helpful to avoid fraud?

In modern time, it has become highly necessary to check the land record before proceeding towards the final step of purchasing the property.  These are few cautions that owner should need to take like:

  • Perfect lawful registration of the property.
  • Proper inspection before finalizing your buying plan of Bhoomi.
  • Thorough checking of the power of attorney.
  • Appropriate scanning of conversion certificate.
  • Checking the detail of tax payments, if it is clear or not until the date of selling.
  • Inspection of the occupancy certificate, which is the prime liability of the authority, whenever builder is applying for it.  

Exact steps to check online Land records of Karnataka

These are few easy and exact step following which you will never feel a victim of fraud again, these steps are:

Step 1-First visit their official website whose URL is http://landrecords.karnataka.gov.in

Step2-Now Click on View RTC Link, located on the right side of the home page

Step 3- After that on the next page select your District, Taluk, Hobli, and Village along with survey no

Step 4-At last, click on the submit button for the exact online land records of Karnataka. 

 

 

Continue Reading
Advertisement

Trending